छोटी नैतिक कहानी – झुट बोलने का परिणाम

यह छोटी नैतिक कहानी – “झूट बोलने का परिणाम” सभी ने सुनी होगी । लेकिन आप को इसे फिर किसी को सुनाने के लिए टेक्स्ट की जरूरत होगी । आप नीचे दिए हुए कहानी को मर्जी चाहे वैसे इस्तेमाल कर सकते है । आप इस कहानी को अपने बच्चों को सुनाए , उन्हे बहुत जरूरी नैतिक सीख मिलेंगी । इस छोटी कहानी द्वारा बच्चों मे सच बोलने की प्रेरणा पैदा होगी ।

hindi moral stories
Image by brgfx on Freepik

छोटी नैतिक कहानी – झुट बोलने का परिणाम

एक जमाने की बात है । एक लड़का भेड़ों को चराने के लिए एक पहाड़ पर ले जाया करता था । दिनभर भेड़ चराकर वह ऊब गया था । उसे एक दिन मस्ती करने की ठानी ।

वह चिल्लाया ” भेड़िया आया भेड़िया आया “।

जब गाव वालों ने उसकी चीख सुनी तो वह दौड़ते हुए आए , लेकिन देखा तो भेड़िया काही नहीं है और लड़का हंस रहा है ।
गाव वाले बहुत गुस्सा हुए और उसे चेतावनी दी के “आगे से फिर ऐसी हरकत ना करे “।

लेकिन लड़का कहा मानने वाला था , उसे तो मजा या रहा था ।
अगले दिन वह फिर चिल्लाया ” भेड़िया आया भेड़िया आया “।

गाव वाले फिर दौड़ते हुए आए , आकर देखा तो फिर वही । लड़का हंस रहा है और कोई भेड़िया वहापर नहीं है ।
इस बार गाव वाले फिर बहुत गुस्सा हुए और उन्होंने आखरी चेतावनी दे डाली ” फिर झुट चिल्लाए तो खबरदार “।

अगली रोज सच मे भेड़ियों का झुंड वहा पर आया और उन्होंने भेड़ों का शिकार शुरू कर दिया । अब बच्चा सच मे चिल्लाया ” भेड़िया आया भेड़िया आया “। और बार बार चिल्लाया ” भेड़िया आया भेड़िया आया “।
लेकिन गाव वाले भी उस के मजाक से उकता गए थे उन्होंने सोचा यह तो रोज ही मजाक करता है । और कोई उसकी मदद के लिए नहीं गया ।

यहा ऊपर भेड़ियों ने सारी भेड़ों को मार डाला और शाम होते होते वह लड़का रोते हुए गाव वापिस आया । एक बूढ़े आदमी ने उसे सांत्वना देते हुए कहा “झूठे पर कोई विश्वास नहीं करता, भले ही वह सच कह रहा हो!”

Moral of The Story

हमेशा सच बोले , झुटो को एक दिन बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है ।

ढेर सारी छोटी नैतिक कहानिया