जानिए पीरियड मिस होने के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे?

प्रेग्नेंसी टेस्ट पॉजिटिव आने के लिए कम से कम आपको 10 दिनों तक इंतजार करना होगा। यदि आप इससे पहले परीक्षण करते हैं, तो आपका परिणाम गलत नकारात्मक हो सकता है। इन स्थितियों में आप गर्भावस्था के सामान्य लक्षणों पर ध्यान दे सकती हैं।

पीरियड्स मिस होने पर कई महिलाएं घबरा जाती हैं। अगर आपके भी पीरियड्स मिस हो गए हैं और सोच रही है की पीरियड मिस होने पर कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे? तो समय रहते 10 दिनों बाद प्रेग्नेंसी टेस्ट कर लेना चाहिए। ताकि यह पता चल सके कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं, आप 10 दिन से पहले टेस्ट करने के लिए डॉक्टर से भी सलाह ले सकती हैं।

💞 यह भी पढे : प्रेग्नेंट है कैसे पता करे ?

पीरियड मिस होने पर कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे?

पीरियड मिस होने के बाद यदि आप गर्भवती होने के लिए सभी शर्तों को पूरा करती हैं, जैसे कि

  • आपने हाल ही में अपने साथी के साथ यौन संबंध बनाए हैं
  • आप बच्चे पैदा करने की उम्र के हैं

तो पीरियड मिस होने के 10 दिन बाद आप प्रेगनेंसी टेस्ट करे। गर्भावस्था का पता लगाने के लिए परीक्षण करवाना और सुनिश्चित होना एक अच्छा विचार है। इस से आप सुनिश्चित हो जाएंगी की आप गर्भवती हैं या नहीं। इससे जल्द टेस्ट करनेपर आप का रिजल्ट फाल्स नेगटिव या सकता है ।

इन स्थिति मे आप पीरियड मिस होने के अलावा गर्भावस्था के आम लक्षणों पर ध्यान दे सकती है ।

पीरियड मिस होने के अलावा गर्भावस्था के आम लक्षण

पीरियड मिस होने के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे?
प्रेग्नन्सी टेस्ट

1 मूड मे बदलाव

प्रारंभिक गर्भावस्था में आपके शरीर में हार्मोन की बाढ़ आपको असामान्य रूप से भावुक बना सकती है और आप को रोना भी या सकता है । इसे मनोदशा मे बदलाव यानि मूड स्विंग होना भी कह सकते है । प्रेग्नन्सी मे मूड स्विंग आम बात है । इस दशा से उभरने के लिए आप अपने साथी की मदद ले । खुश रहे और अवसादी विचारों को अपने आस पास भटकने ना दे ।

2 कोमल, सूजे हुए स्तन

इसी तरह प्रेग्नेंट होनेपर आप फुले हुए स्तन महसूस कर सकती हो । गर्भावस्था की शुरुआत में हार्मोनल परिवर्तन आपके स्तनों को संवेदनशील और पीड़ादायक बना सकते हैं। कुछ हफ़्तों के बाद बेचैनी कम होने की संभावना है क्योंकि आपका शरीर हार्मोनल परिवर्तनों की आप के शरीर को आदत हो जाती है।

3 जी मिचलाना और उलटी

गर्भवती होने से १-२ महीने बाड़ आप को मॉर्निंग सिक्नेस जैसी परेशानी हो सकती है । यह दिन मे किसी भी वक्त हो सकती है । कुछ महिलाओ का शुरू मे जी मिचला सकता है । कुछ उलटी कर सकती है । इसके पीछे भी हार्मोन्स का बदलाव होता है । हालाकी कुछ महिलाओ मे यह लक्षण नहीं दिखाई देते । असीडीटी के कारण भी इस तरह का भ्रम हो सकता है ।

4 ज्यादा पेशाब आना

प्रेग्नेंट होने के बाड़ आप को ज्यादा बार पेशाब या सकती है । और आप इसे आसानी से महसूस कर सकते है । इसकी वजह गर्भावस्था के दौरान बढ़ी हुई रक्त की मात्रा होती है । बढ़े हुए रक्त की मात्रा की वजह से आप की किडनी अतिरिक्त तरल पदार्थ को फ़िल्टर करती है और मूत्राशय मे ज्यादा पेशाब जमा होती है ।

5 थकान महसूस होना

प्रेग्नन्सी के शुरुआती लक्षणों मे सबसे ऊपर थकान का नंबर आता है । इस दौरान आप थके हुए महसूस करते है । गर्भावस्था के पहले ३ माह मे आप को ज्यादा थकान और नींद महसूस होती है । थकान हार्मोन्स के स्तर मे वृद्धि के कारण महसूस होती है जबकि नींद का निश्चित कारण कोई नहीं जानता ।

निष्कर्ष

आप मासिक धर्म के पहले दिन से अधिकांश गर्भावस्था परीक्षण कर सकती हैं। यदि आपको नहीं पता कि आपकी अगली माहवारी कब होने वाली है, तो पिछली बार असुरक्षित यौन संबंध बनाने के कम से कम 21 दिन बाद परीक्षण करें। कुछ बहुत ही संवेदनशील गर्भावस्था परीक्षणों का उपयोग आपके मासिक धर्म से पहले ही किया जा सकता है। आप दिन में किसी भी समय एकत्र किए गए मूत्र के नमूने पर गर्भावस्था परीक्षण कर सकती हैं। यह सुबह होना जरूरी नहीं है।