कौन सी मछली खानी चाहिए ?

मछली भारत में कई लोगों के लिए प्रोटीन का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। हालांकि, देश में मछली की विशाल विविधता के साथ, यह जानना मुश्किल हो सकता है कि कौन सी मछली खाने के लिए सुरक्षित है और किससे बचना चाहिए। इस लेख में, हम भारत में सबसे अधिक खपत की जाने वाली कुछ मछलियों और प्रत्येक से जुड़े लाभों और जोखिमों पर एक नज़र डालेंगे।

भारत में आमतौर पर खपत होने वाली मछलियों की सूची

कृपया ध्यान दें कि यह उन मछलियों की सूची है जिनका भारत में आमतौर पर सेवन किया जाता है, और यह क्षेत्र और सांस्कृतिक प्रथाओं के आधार पर भिन्न हो सकती है। साथ ही कुछ मछलियाँ जिनका भारत में आमतौर पर सेवन किया जाता है, हो सकता है कि दुनिया के अन्य भागों में उपलब्ध न हों।

  • भारतीय मैकेरल
  • सार्डिन
  • तिलापिया
  • कैटफ़िश
  • रोहू
  • हिलसा
  • झींगे
  • सैमन
  • टूना
  • Anchovies
  • राजा मछली (सुरमई)
  • पोम्फ्रेट
  • Barramundi
  • काप
  • पर्ल स्पॉट (करीमीन)
  • भेटकी
  • बॉम्बिल (बॉम्बे डक)
  • सीर मछली (सुरमई)
  • बांगडा (मैकेरल)
  • एकमात्र मछली
  • व्हाइटिंग
  • कांगर मछली
  • तोता मछली
  • छिपकली मछली (चन्ना)
  • केकड़े, झींगा मछली और अन्य शंख।

कौन सी मछली खानी चाहिए ?

1 भारतीय मैकेरल

भारतीय मैकेरल भारत में एक लोकप्रिय मछली है, जिसका मुख्य रूप से तटीय क्षेत्रों में सेवन किया जाता है। यह ओमेगा-3 फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत है, जो हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। भारतीय मैकेरल भी प्रोटीन, विटामिन और खनिजों का एक अच्छा स्रोत है। हालाँकि, इसका सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए क्योंकि इसमें उच्च स्तर का पारा हो सकता है।

2 सार्डिन

सार्डिन, जिसे भारत में “माथी” के रूप में भी जाना जाता है, छोटी, तैलीय मछलियाँ हैं जो आमतौर पर तटीय क्षेत्रों में खाई जाती हैं। वे ओमेगा -3 फैटी एसिड, प्रोटीन और विटामिन डी का एक बड़ा स्रोत हैं। सार्डिन में पारा सामग्री भी कम होती है, जिससे वे खपत के लिए एक सुरक्षित विकल्प बन जाते हैं। वे बहुत सस्ती मछलियाँ भी हैं, जिन्हें कई व्यंजनों में बनाया जा सकता है।

3 तिलापिया

तिलापिया एक मीठे पानी की मछली है जो भारत में व्यापक रूप से खेती की जाती है। यह प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है और पारा सामग्री में कम है। तिलापिया फास्फोरस और पोटेशियम जैसे आवश्यक खनिजों से भी समृद्ध है। हालांकि, यह अन्य मछलियों की तरह ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर नहीं है।

4 सैमन

सैल्मन भारत में एक लोकप्रिय मछली है, जिसे मुख्य रूप से डिब्बाबंद मछली के रूप में खाया जाता है। यह ओमेगा-3 फैटी एसिड, प्रोटीन और विटामिन डी का एक समृद्ध स्रोत है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि खेती की गई सामन में पीसीबी और डाइऑक्सिन जैसे उच्च स्तर के दूषित पदार्थ हो सकते हैं। जंगली पकड़ा सामन एक बेहतर विकल्प है।

5 झींगे

झींगे भारत में एक लोकप्रिय समुद्री भोजन है, जिसे उबालकर, तला हुआ और ग्रिल करके विभिन्न रूपों में खाया जाता है। वे प्रोटीन, विटामिन और खनिजों का एक अच्छा स्रोत हैं। झींगे में पारा का निम्न स्तर भी होता है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कुछ झींगों का एंटीबायोटिक दवाओं और अन्य रसायनों के साथ इलाज किया जा सकता है, इसलिए उन्हें एक प्रतिष्ठित स्रोत से खरीदना सबसे अच्छा है।

अंत में,

मछली भारत में कई लोगों के लिए प्रोटीन और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। हालांकि, जिस प्रकार की मछली का सेवन किया जाता है और उनसे जुड़े संभावित जोखिमों के बारे में सावधान रहना जरूरी है। कुछ मछलियाँ, जैसे भारतीय मैकेरल, सार्डिन, तिलापिया और झींगे को सुरक्षित विकल्प माना जाता है, जबकि अन्य, जैसे कि फार्म्ड सैल्मन, का सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए। एक प्रतिष्ठित स्रोत से मछली खरीदना और खपत के लिए अनुशंसित दिशानिर्देशों का पालन करना हमेशा सर्वोत्तम होता है।