पिपरमेंट किसे कहते हैं?

पुदीना के एक प्रजाति को पिपरमेंट (peppermint) कहते है । पिपरमिंट मे साधारण पुदीना के मुकाबले अधिक मात्रा में मेन्थोल होता है । इस वजह से इसका स्वाद और सुगंध भी तेज होता है । साधारणतः इसे मिंट के नाम से ही जाना जाता है । मिंट फ्लेवर के बारे मे तो हर कोई जानता है । यह मिंट फ्लेवर पिपरमेंट से ही आता है । पिपरमेंट को हम कई सारे खाने के चीजों को बनाने मे सामग्री के तौर पर इस्तेमाल करते है । इसी के साथ साथ हम इसे एक घरेलू पेट की दवा के रूप मे भी इस्तेमाल करते है ।

पिपरमिंट का उपयोग

पेपरमिंट का उपयोग खाद्य पदार्थों, सौंदर्य प्रसाधन, साबुन, टूथपेस्ट, माउथवॉश और अन्य उत्पादों में स्वाद या सुगंध जोड़ने के लिए किया जाता है, और इसके कुछ औषधीय उपयोग हो सकते हैं। एक व्यक्ति चाय बनाने के लिए सूखे या ताजे पुदीना (मेंथा पिपेरिटा) के पत्तों का भी उपयोग कर सकता है। पेपरमिंट मूल रूप से यूरोप का है, लेकिन अब लोग इसकी खेती पूरी दुनिया में करते हैं।

पिपरमेंट किसे कहते हैं?
Image by jcomp on Freepik

मेडिकल न्यूज टूडै के अनुसार पेपरमिंट कई स्थितियों के लिए एक लोकप्रिय पारंपरिक उपाय है । कई शोधों मे पता चला है की पिपरमिंट नीचे दिए हुए परेशानियों को कम करने मे प्रभावी हो सकता है :

  • पेट फूलना (गैस)
  • मासिक – धर्म में दर्द
  • दस्त
  • जी मिचलाना
  • अवसाद से संबंधित चिंता
  • मांसपेशियों और तंत्रिका दर्द
  • सामान्य सर्दी के लक्षण
  • खट्टी डकार

पुदीना का उपयोग कई हजार वर्षों से स्वास्थ्य प्रयोजनों के लिए किया जाता रहा है। प्राचीन ग्रीस, रोम और मिस्र के अभिलेखों का उल्लेख है कि इसका उपयोग पाचन विकारों और अन्य स्थितियों के लिए किया जाता था। आज, पुदीना चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS), अन्य पाचन समस्याओं, सामान्य सर्दी, साइनस संक्रमण, सिरदर्द और अन्य स्थितियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

पिपरमिंट ऑइल

पेपरमिंट खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में एक सामान्य स्वाद देने वाला एजेंट है, और पेपरमिंट ऑयल का उपयोग साबुन और सौंदर्य प्रसाधनों में सुगंध के रूप में किया जाता है।

पुदीने के पत्ते और पेपरमिंट के आवश्यक तेल (peppermint essential oil) दोनों का उपयोग स्वास्थ्य प्रयोजनों के लिए किया जाता है। पेपरमिंट ऑयल पेपरमिंट के पौधे के फूल वाले हिस्सों और पत्तियों से लिया जाने वाला आवश्यक तेल है। (आवश्यक तेल (essential oil) बहुत केंद्रित घट तेल होते हैं जिनमें ज्यादातर वह पदार्थ होते हैं जो पौधे को इसकी विशिष्ट गंध या स्वाद देते हैं।)

पेपरमिंट ऑयल को सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों के दर्द और खुजली जैसी समस्याओं के लिए सामयिक उपयोग (त्वचा पर लगाया जाता है) के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। अरोमाथेरेपी में, खांसी और सर्दी के इलाज, दर्द को कम करने, मानसिक कार्य में सुधार और तनाव को कम करने के लिए पेपरमिंट ऑयल को बढ़ावा दिया जाता है।

पुदीना और पिपरमिंट में फर्क

साधारण पुदीना : पुदीना ‘मेंथा प्लांट’ परिवार के लिए एक सामान्य शब्द है। पुदीना, संतरा पुदीना, सेब पुदीना, भाला पुदीना और ऐसी लगभग 15 और किस्में इसी परिवार से संबंधित हैं। पुदीना मानव जाति के लिए ज्ञात सबसे पुरानी जड़ी बूटियों में से एक है। भारत में भी पुदीना व्यापक रूप से उगाई जाने वाली जड़ी-बूटियों में से एक है। यह कई घरों में आवश्यक गर्मी है। रसोई के अलावा, पुदीने के औषधीय और उपचार गुण भी इसे सबसे पसंदीदा जड़ी-बूटियों में से एक बनाते हैं। पुदीने की हर किस्म का अपना अलग स्वाद होता है। पुदीने की कई किस्मों में से एक मुख्य विशिष्ट विशेषता मेन्थॉल का गठन है।

पिपरमिंट : पीपरमिंट पुदीने की जड़ी-बूटी की किस्मों में से एक है जिसे इसके स्वाद और सुगंध साधारण पुदीना से तेज होता है । आपने पेपरमिंट टैबलेट, पेपरमिंट आइस क्रीम और पेपरमिंट टी देखी होगी। सौंदर्य और सौंदर्य प्रसाधन के क्षेत्र में भी पुदीना एक हिट है। पुदीने का तेल गले की खराश और सर्दी के इलाज के लिए एक बेहतरीन उपाय है। पेपरमिंट में एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-सेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, और यह हल्के शामक और प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में कार्य करता है।