संगमरमर पत्थर की पूरी जानकारी

संगमरमर एक रूपांतरित चट्टान है, जो चूना पत्थर के कायांतरण का परिणाम होता है। संगमरमर पत्थर को मुख्य रूप से इमारतों और स्मारकों, आंतरिक सजावट, प्रतिमा, टेबल टॉप और सस्ता माल के लिए किया जाता है। संगमरमर का रंग और रूप उसका सबसे महत्वपूर्ण गुण हैं। इस पोस्ट में हम संगमरमर की उपयुक्त जानकारी हासिल करेंगे ।
🏛️🏛️🏛️

संगमरमर पत्थर
संगमरमर फर्श (Photo by Edward Jenner)

संगमरमर पत्थर (Sangmarmar Pathar) की चर्चा किए बगैर ताज महल की कहानी पूरी नहीं होती । संगमरमर का पत्थर ताज महल को विशेष सफेद रंग रूप देता है । इसका नाम “संग-पत्थर, -का, मर्मर-मुलायम = मुलायम पत्थर” इस तरह बना है । मरमर शब्द प्राचीन ग्रीक शब्द “मार्मरोन” की उपज है । जिसका अर्थ चमक होता है । यह पत्थर नक्काशी कारागरी के लिए अनुकूल होता है । ताजमहल मे इस्तेमाल होने के वजह से यह अपने प्रसिद्धि के इस मुकाम तक पहुचा है के स्कूल मे जाने वाला बच्चा भी इसका नाम जानता है ।

संगमरमर क्या है? | Sangmarmar kya hai

संगमरमर एक प्रकार का मार्बल पत्थर है जो चुना और पत्थर के कायांतरण से बनता है । संगमरमर कैल्सियम कार्बोनेट (CaCO3) का स्फटिकीय रूप है। उच्च तापमान और दबाव के कारण समय के साथ अवसादी शैल (Sedimentary Rock) का कायांतरण संगमरमर मे होता है । अधिकतर यह पत्थर शिल्प कला और निर्माण कार्य हेतु इस्तेमाल होता है ।

विश्वप्रख्यात ताजमहल राजस्थान के सफेद संगमरमर से बना हुआ है । ताजमहल के निर्माण में इस्तेमाल किया गया झिलमिलाता सफेद संगमरमर दिन के समय के अनुसार रंग बदलता रहता है – सूर्योदय के उत्थान पीले से लेकर तो रात के उजाड़ गहरे नीले रंग तक। अलग अलग वक्त मे इसे भेट देनेवालों के लिए यह अलग अलग अनुभव देता है ।

ऐसिड रेन (अमल वर्षा) के प्रति क्रियाशील होने की वजह से संगमरमर को इस से खतरा होता है । आम्ल के संपर्क मे आने की वजह से संगमरमर का विघटन होता है और कालापन दिखाई देता है । इसी लिए कई बार ताजमहल को अम्लवर्षा के दौरान ढकने की नौबत तक या जाती है । कई पर्यावरण वादियों ने इसके खतरे के बारे मे वक्त रहते आगाह कर दिया है ।

संगमरमर पत्थर | Sangmarmar pathar

संगमरमर का पत्थर मुलायम होता है, इस वजह से नक्काशी कारागरी इसपर आसान होती है । इसी वजह से मूर्तिकार और शिल्पकारों की यह पहली पसंद है । इसकी खदाणे होती है और इसे वहा से काटकर लाया जाता है । काटकर और घिसकर इसके टाइल्स बनाए जाते है । फिनिशिंग देने के बाद संगमरमर का पत्थर बेहद खूबसूरत दिखाई देता है । सफेद रंग का संगमरमर अधिक प्रकाश परावर्तित करने की वजह से जल्द गर्म नहीं होता ।

संगमरमर पत्थर कैसे बनता है?

संगमरमर का निर्माण लाखों-करोड़ों वर्षों के कुदरती प्रक्रिया से होता है । संगमरमर एक चट्टान है जो तलछटी कार्बोनेट चट्टानों के कायापलट से उत्पन्न होती है, जो आमतौर पर चूना पत्थर या डोलोमाइट चट्टान होती है। लाखों वर्षों के स्फटिक बनने के प्रक्रिया (क्रिस्टिलिकरण) के दौरान संगमरमर मार्बल की चट्टानें बनती है । संगमरमर का सूत्र कैल्सियम कार्बोनेट (CaCO3) है ।

संगमरमर पत्थर कहाँ पाया जाता है?

भारत मे राजस्थान के मकराना मे संगमरमर पत्थर पाया जाता है । इसके अलावा गुजरात और मध्यप्रदेश मे भी यह पाया जाता है । पूरे दुनिया की बात करे तो संगमरमर पत्थर स्पेन , इटली , तुर्की और मिस्र मे पाया जाता है । इटालियन मार्बल के बारे मे तो आप ने सुना ही होगा, यह एक महंगे प्रकार का संगमरमर होता है जो आलीशान निर्माण कार्यों मे इस्तेमाल होता है ।

संगमरमर के प्रकार और रंग

संगमरमर के पत्थर कई रंग और प्रकार के होते है । इसमे सफेद के अलावा हरा, काला और रेडिश रंग प्रकार के संगमरमर भी होते है । भारत मे रंगीन संगमरमर की खदाणे जबलपुर, बालाघाट और ग्वालियर मे है । सफेद संगमरमर के बाद काला संगमरमर मार्बल बेहत पसंद किया जाता है ।

संगमरमर और ग्रेनाइट

संगमरमर और ग्रेनाइट अलग अलग पत्थर होते है । संगमरमर के पैटर्न मे धाराप्रवाह वाली रेखा होती है और ग्रेनाइट मे धब्बे जैसा पैटर्न होता है । ग्रेनाइट का पत्थर मध्यम कठोर होता है और संगमरमर का एक प्रकार का नरम पत्थर है। रंगों मे भी फर्क साफ दिखाई देता है । कीमत की बात करे तो संगमरमर का पत्थर ग्रेनाइट के पत्थर से महंगा होता है ।

संगमरमर कीमत

सफेद संगमरमर की कीमत ₹50 से ₹600 प्रति वर्ग फुट होती है । संगमरमर पत्थर की कीमत इसके क्वालिटी पर निर्भर करती है । इसके बर्तन मूर्तिया और फर्निचर बनाए जाते है । अक्सर लोग इसका इस्तेमाल मंदिर, मस्जिद और आलीशान घरों के निर्माण कार्य मे करते है । इस से बने फ्लोर बेहद खूब सूरत और आकर्षक दिखाई देते है ।

नॉर्मल संगमरमर पत्थर का रेट लगभग 150-200 रुपये होता है। और इस रेट मे ज्यादा फरक नहीं आता ।

संगमरमर की मूर्ति मूल्य

संगमरमर से बनी मूर्तिया 500 से 1500 रुपये मे आसानी से मिल जाती है । आप इसे ऑनलाइन या किसी शिल्पकार वस्तुओ के दुकान से खरीद सकते है । आस्था के आगे इसका मूल्य कुछ भी नहीं । यह पत्थर एक अलग ही तरह की भावना प्रदान करता है ।