भारतीय रिजर्व बैंक की जानकारी और सवाल जवाब

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना | Bhartiy Reserve Bank Ki Sthapana

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत का केंद्रीय बैंक है, जिसकी स्थापना 1 अप्रैल, 1935 को भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के तहत की गई थी। इसका प्राथमिक कार्य देश की वित्तीय प्रणाली का प्रबंधन और योजन करना है। भारतीय रिजर्व बैंक भारत में वित्तीय स्थिरता बनाने के लिए मौद्रिक नीति का उपयोग करता है, और इसे देश की मुद्रा और क्रेडिट सिस्टम को विनियमित करने का श्रेय दिया जाता है ।

रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण

इसकी स्थापना कोलकाता कोलकाता मे हुई थी, साल 1937 में इसे मुंबई में स्थानांतरित कर दिया गया था, तब से वही स्थित है। मूल रूप से, बैंक निजी स्वामित्व में था। हालाँकि, स्वतंत्रता के बाद, 1949 में इसका राष्ट्रीयकरण कर दिया गया था और अब यह पूरी तरह से भारत सरकार के स्वामित्व में है।

RBI का क्या काम है ? | RBI Ka kya kaam hai ?


इसे बैंकरों का बैंक भी कहा जाता है। यह केंद्र सरकार के पैसे की भी देखभाल करता है। आरबीआई का मुख्य उद्देश्य भारत में वित्तीय क्षेत्र का समेकित पर्यवेक्षण करना है, जो वाणिज्यिक बैंकों, वित्तीय संस्थानों और गैर-बैंकिंग वित्त फर्मों से बना हुआ होता है। आरबीआई द्वारा अपनाई गई पहल में बैंक निरीक्षणों का पुनर्गठन, बैंकों और वित्तीय संस्थानों की ऑफ-साइट निगरानी शुरू करना और लेखा परीक्षकों की भूमिका को मजबूत करना शामिल है।

Reserve Bank का गवर्नर

भारतीय रिजर्व बैंक का मुखिया गवर्नर कहलाता है जिसकी की नियुक्ति देश का प्रधानमंत्री करता है । इसतरह गवर्नर के हाथों मे कई तरह की शक्तिया और जिम्मेदारिया होती है ।

सवाल जवाब

भारतीय रिजर्व बैंक कहां है?

भारतीय रिजर्व बैंक का मुख्य कार्यालय मुंबई स्थित है । वही से इस के मुख्य काम काज संभाले जाते है ।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया क्या क्या कार्य करता है?

भारतीय रिजर्व बैंक उसके अधीन आनेवाले बैंक के लिए नियम बनाता है । वह उनके ब्याज दरों को ते और कंट्रोल करता है। वह सरकार द्वारा तय की गई अर्थ नीति को लागू करने मे मदत करता है । इसितर वह वित्तीय प्रणाली का विनियमन और पर्यवेक्षण, विदेशी मुद्रा का प्रबन्धन, मुद्रा जारी करना, उसका विनिमय करना और परिचालन योग्य न रहने पर उन्हें नष्ट करना ऐसे काम करता है ।

आरबीआई का राष्ट्रीयकरण कब किया गया था?

दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जब कई बैंकों के राष्ट्रीयकरण हो रहा था इसी दौरान साल 1945 में बैंक ऑफ इंग्लैंड का राष्ट्रीयकरण हुआ. इसके पीछे पीछे साल 1949 में भारतीय रिजर्व बैंक का भी राष्ट्रीयकरण हो गया .

भारतीय रिज़र्व बैंक के पहले भारतीय मूल के गवर्नर कौन थे?

भारतीय रिज़र्व बैंक के पहले मूल भारतीय गवर्नर सी. डी देशमुख थे ।

गवर्नर की नियुक्ति कौन करता है?

RBI गवर्नर की नियुक्ति, भारत के प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री के सलाह पर करते या कराते है ।

भारत में RBI के कितने कार्यालय हैं?

भारत में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के कुल 31 कार्यालय हैं। इसका का केन्द्रीय कार्यालय शुरु मे कोलकाता में स्थपित किया गया था जिसे 1937 में स्थायी रूप से मुंबई में स्थानांतरित किया गया।

RBI के गवर्नर शक्तियाँ क्या क्या है?

अर्थव्यवस्था में मौद्रिक स्थिरता को बनाए रखना, नए विदेशी और निजी बैंकों को लाइसेंस और नियमावली जारी करना एवं राष्ट्र की वित्तीय प्रणाली का विनियमन करना इत्यादि RBI के गवर्नर शक्तियाँ होती है । इसी को हम उनकी जिम्मेदारिया भी कह सकते है।

RBI लोगो का क्या मतलब है?

RBI यानि भारतीय रिजर्व बैंक के लोगो चिन्ह में मूल रूप से शेर और पाम ट्री का एक स्केच दिखाया गया था, लेकिन बाद में शेर को रॉयल बंगाल टाइगर के साथ बदलकर भारत का रेप्रेज़ेंट करने का निर्णय लिया गया।

शायद आपको भी ये अच्छा लगे
टिप्पणी छोड़ें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।