व्यंगचित्र: और कुछ बोल, अब तो डंडा ही मिलेगा।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ